Friday, 25 January 2013

सभी चाहते ताज



अंतर्ज्वाला देश को, जला रही है आज।
अपने ही सिर देखना, सभी चाहते ताज।
सभी चाहते ताज, देश के लिए न क
सिर्फ स्वार्थ के गीत, गा रहा देखें वो ही।
कहे 'कल्पना' मीत, सभी को मिले निवाला
स्वर्ग बनाएँ देश, बुझाकर अंतर्ज्वाला।
 
भूल न जाएँ आज हम, वीरों के बलिदान।
आज़ादी के वास्ते, किए निछावर प्राण।
किए निछावर प्राण, क्रांति के अंकुर रोपे
माँ की गोद उजाड़, तत्व निज, माँ को सौंपे।  
कहे कल्पना दीप, याद का पुनः जलाएँ
वीरों के बलिदान, आज हम भूल न जाएँ।


-कल्पना रामानी

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

मेरी प्रकाशित ई बुक

जंगल में मंगल

जंगल में मंगल

प्रेम की झील

प्रेम की झील