Monday, 2 May 2016

गर्मी करे विहार

 
गर्मी में देखो सखी, तरणताल का जोश। 
लोहा लेने धूप से, खोला राहत-कोश। 
खोला राहत-कोश, जानता है यह ज्ञानी
जल निगले जब काल, उसे बनना है दानी। 
कितना सखी उदार, ताल यह सेवाकर्मी
बनकर शीत फुहार, हर रहा जन की गर्मी।

जब-जब आकर भूमि पर, गर्मी करे विहार
मित्रों तब उसका करें, मनचाहा सत्कार
मनचाहा सत्कार, सुराही जल भर लाएँ
फल सलाद के साथ, दही का पात्र सजाएँ
जो माँगे तर खाद्य, परोसें सारे जी भर
गर्मी करे विहार, भूमि पर जब-जब आकर

उद्यत होता सूर्य जब, तड़पाने मन-प्राण
न्यौता देते तब हमें, सुबह-शाम उद्यान
सुबह-शाम उद्यान, सौंपकर खुशबू-छाया
सहज सुखाते स्वेद, अजब कुदरत की माया
फूलों का परिवार, हमारा सौख्य सँजोता
तड़पाने मन-प्राण, सूर्य जब उद्यत होता  

दिनकर के सखि देखकर, अतिशय गरम मिजाज   
हमें बुलाते दूर से, दे पहाड़ आवाज़
दे पहाड़ आवाज़, प्रकृति का लुत्फ उठाने
चल पड़ते हैं पाँव, भ्रमण पर इसी बहाने
पर्वत शीतल-स्नेह हमें देते तब जी भर 
जब-जब गरम-मिजाज सखी होता है दिनकर 

-कल्पना रामानी   

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

मेरी प्रकाशित ई बुक

जंगल में मंगल

जंगल में मंगल

प्रेम की झील

प्रेम की झील