Tuesday, 23 October 2012

हम बच्चे इस देश के


हम बच्चे इस देश के, नन्हें सजग सपूत।
सद्पथ पर चलते सदा, विश्व शांति के दूत।
विश्व शांति के दूत, देश का नाम करेंगे
जन-जन के मन प्रेम, त्याग के भाव भरेंगे।
जीतेंगे हर जंग, जब तलक बाहों में दम
नन्हें सजग सपूत, देश के बच्चे हैं हम।

----------------------------

बच्चे क्या जानें भला, कपट, द्वेष या बैर।
सबको अपना मानते, दिखे न कोई गैर।
दिखे न कोई गैर, सभी से हिल मिल जाते
करके मीठी बात, हमेशा मन बहलाते।
जैसा दें आकार, ढलें ये लोए कच्चे
कपट द्वेष या बैर, न जानें भोले बच्चे।
-----------------------------
 
जिस घर में गूँजे सदा, किलकारी का शोर।
प्यारी मीठी बोलियाँ, हलचल चारों ओर।
हलचल चारों ओर, खिलौने फैले फैले
दीवारों पर दाग, फर्श हों मैले मैले।
कहनी इतनी बात, सभी यह कहते अक्सर
बन जाता सुख धाम, चपल बच्चे हों जिस घर।


-कल्पना रामानी

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

मेरी प्रकाशित ई बुक

जंगल में मंगल

जंगल में मंगल

प्रेम की झील

प्रेम की झील