Friday, 9 November 2012

जिस घर सजती वाटिका



जिस घर सजती वाटिका, संग स्नेह के फूल।
उस घर क्यों होंगे भला, बाधाओं के शूल।
बाधाओं के शूल, सदा बरबादी लाते
गृहस्वामी के कष्ट, चुभन से बढ़ते जाते।
कहनी इतनी बात, काँपते कांटे थर थर
संग स्नेह के फूल, वाटिका सजती जिस घर। 
 
घर आँगन की वाटिका, खिली खिली है आज।
माली ही यह जानता, क्या है इसका राज़।
क्या है इसका राज़, उसी ने अंकुर सींचे
अब तो फल का स्वाद, मिल रहा आँखें मींचे।
श्रम से ही हों मीत, मुरादें पूरी मन की
खिली रहे चिरकाल, वाटिका घर आँगन की। 

-कल्पना रामानी

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

मेरी प्रकाशित ई बुक

जंगल में मंगल

जंगल में मंगल

प्रेम की झील

प्रेम की झील