Monday, 17 December 2012

सूरज ने जाने कहाँ...












सूरज ने जाने कहाँ, किरणें दी हैं भेज।
सर्द हवाएँ ओढ़कर, स्वयं हुआ निस्तेज।
स्वयं हुआ निस्तेज, धर्म अपना ही भूला
कुछ दिन की है बात, प्यार से सहज कबूला।
अब तो उगते प्रात, दांत लगते हैं बजने
किरणें दी हैं भेज, कहाँ जाने सूरज ने।

लोग घरों में कैद हैं, पंछी दुबके नीड़।
चौराहे पर अब नहीं दिखती वैसी भीड़।
दिखती वैसी भीड़, बर्फ ने की बमबारी।
कुहरे ने ऐलान, किया कर्फ़्यू का जारी।
दिखते गाँव अलाव, और हीटर शहरों में।
पंछी दुबके नीड़, कैद हैं लोग घरों में।


-कल्पना रामानी

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

मेरी प्रकाशित ई बुक

जंगल में मंगल

जंगल में मंगल

प्रेम की झील

प्रेम की झील