Sunday, 9 June 2013

ऋतु परिवर्तन अटल है















ऋतु परिवर्तन अटल हैं, शीत बढ़े या ताप।
जैसे भी बदलाव हों, बदल जाइए आप।
बदल जाइए आप, अगर मौसम गर्मी का।
खाना खाएँ अल्प, बढ़े सेवन पानी का।
ऋतु बोले जो बात, बना लें वैसा ही मन
शीत बढ़े या ताप, अटल हैं ऋतु परिवर्तन।

नभचर, थलचर, जीव सब, गर्मी से हैरान।
सड़कों के सीने फटे, हाँफ रहे मैदान।
हाँफ रहे मैदान, जलाशय प्यासे सारे
फूल पात उद्यान, बिना जल बाजी हारे।
अपनाएँ वो रीत, कंठ ज्यों हों सबके तर
पाएँ जीवनदान, जीव सब नभचर थलचर।

-कल्पना रामानी

No comments:

पुनः पधारिए


आप अपना अमूल्य समय देकर मेरे ब्लॉग पर आए यह मेरे लिए हर्षकारक है। मेरी रचना पसंद आने पर अगर आप दो शब्द टिप्पणी स्वरूप लिखेंगे तो अपने सद मित्रों को मन से जुड़ा हुआ महसूस करूँगी और आपकी उपस्थिति का आभास हमेशा मुझे ऊर्जावान बनाए रखेगा।

धन्यवाद सहित

--कल्पना रामानी

Google+ Followers

मेरी प्रकाशित ई बुक

जंगल में मंगल

जंगल में मंगल

प्रेम की झील

प्रेम की झील